चरित्र की क्या महिमा है?

चरित्र मनुष्य की सबसे बड़ी पूंजी है। अच्छा आचरण एक साधारण मानव को भी पूज्यनीय बनाता है। जीवन में धन, बल व शरीर के खत्म हो जाने पर भी मनुष्य का कुछ नहीं बिगड़ता। समाज में जिसका एक बार चरित्र गिर गया उस प्राणी के पास कुछ भी शेष नहीं बचता।