सेमीकंडक्टर कैसे बनता है?

अर्धचालक पदर्थों का निर्माण सुचालक और कुचलक पदार्थों से मिलकर बनता हैं। सेमीकंडक्टर के निर्माण में दो चालक पदार्थ अर्थात् कोई भी धातु (जैसे – सोना या तांबा आदि) के बीच में एक कुचालक (जैसे – कांच) पदार्थ या एक प्रकार की अशुद्धि मिला दी जाती हैं। इस अशुद्धि को मिलाने की क्रिया को ड्रोपिंग कहा जाता है।