ह्वेनसांग किसका दरबारी कवि था?

सही उत्तर ह्वेनसांग है। चीनी तीर्थयात्री ह्वेनसांग ने हर्ष के दरबार का दौरा किया, चीन वापस जाने के बाद ‘शि-यू-की’ (पश्चिम की दुनिया) एक पुस्तक लिखी। हर्षवर्धन ह्वेनसांग ने अपनी पुस्तक में दो अन्य राजाओं- पल्लव वंश के नरसिंह वर्मन और चालुक्य वंश के पुलकेसिन द्वितीय की भी प्रशंसा की।