Apsara mantra

Urvashi Apsara Mantra A Simple Mantra Sadhana To Attract Urvashi. Apsara Urvashi is one of the beautiful seductive apsaras in the court of the King of Gods, The Indra.

Apsaras Urvashi is not only beautiful but she is a supernatural female being capable of providing every material comfort.

Apsaras Urvashi is ever youthful, elegant, and superb in the art of dancing. Urvashi is a masterpiece of beauty and is the goddess of gods. Urvashi is excellent in dance, poetry, and music.

Apsara Urvashi is a goddess who establishes the divine and spiritual relationship of life with a seeker. And only a competent person can manifest her.

Apsaras are beautiful, supernatural female beings. They are youthful and elegant, and superb in the art of dancing.

This is one of the rare, authentic & powerful Urvashi Apsara Sadhana mantras which is used for the manifestation of apsara Urvashi which is very beautiful, seductive, and elegant.

Urvashi is capable of providing all the material comforts of human life. Urvashi is superb in the art of dancing. This mantra should be chanted only after taking the permission of Guruji.

Apsara Sadhana Vidhi Mantraअप्सरा साधना :-हिन्दू धरम में बहुत सी ऐसी चमत्कारिक साधनाओं का विवरण मिलता है जिन्हें सिद्ध करने पर जातक बहुत सी चमत्कारिक शक्तियों का मालिक बन सकता है | अप्सरा साधना भी चमत्कारिक साधनाओं में से एक है जो ‘ आकर्षक व्यक्तित्व ‘ की चाह रखने वाले जातक की इच्छा को पूर्ण करती है | अप्सरा साधना में सफलता प्राप्त करने वाला जातक : सौंदर्य, रूप , यौवन व आकर्षण आदि स्वाभाविक रूप से प्राप्त कर लेता है | प्रेम संबंध में विफलता, विवाह में विलम्ब व भोग की प्राप्ति में भी अप्सरा साधना करना फलदायी माना गया है |अप्सरा स्वर्गलोक की वे सुंदरियाँ है जो इंद्रदेव के दरबार में नृत्य कला व गायन करने के साथ-साथ इंद्रदेव के आदेश अनुसार समय-समय पर ऋषियों-मुनियों की तपस्या को अपने मोह जाल द्वारा भंग करने का कार्य भी करती रही है | और इसी कारण उन्हें समय-समय पर ऋषियों द्वारा श्राप का भाजन भी बनना पड़ा है | धर्म शास्त्रों में बहुत सी अप्सराओं का विवरण मिलता है जिनमें : घृताची, रंभा , उर्वशी, तिलोत्तमा, मेनका और कुंडा को प्रमुख माना गया है | उर्वशी अप्सरा को सबसे शक्तिशाली माना गया है व इसे सिद्ध करना थोडा कठिन भी है |अप्सराएँ भी स्वयं में एक दैवीय शक्ति ही होती है जो जातक की हर इच्छा को पूर्ण कर सकती है | अप्सरा साधना पूर्ण होने पर ये प्रत्यक्ष रूप से जातक को दर्शन देती है व उसके अनुरूप उसकी सभी इच्छाओं की तृप्ति भी करती है | अप्सरा साधना को सिद्ध करने वाला जातक रूप,सौंदर्य, कला में तो स्वतः ही पारंगत हो जाता है इसके साथ ही अप्सरा उसकी सभी मनोकामना को भी पूर्ण करती है |

धर्म पुराणों के अनुसार अप्सरा साधना/(Apsara Sadhana Vidhi Mantra) सरल और अतिशीघ्र फल देने वाली साधना है | किन्तु वास्तविक द्रष्टि से देखा जाये तो साधना चाहे कोई भी हो उसमें सिद्धि प्राप्त करने में जातक को बड़ी-बड़ी परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है | अप्सरा साधना में भी जातक की साधना को भंग करने के बार-बार प्रयास किये जाते है और अधिकांश जातक जरा सी भय की अनुभूति होते ही साधना को छोड़ देता है |पूर्ण विश्वास, द्रढ़ संकल्प, एकाग्रता व योग्य गुरु का मार्गदर्शन ही साधना में सफल होने की कुंजी है | इसलिए किसी भी साधना को शुरू करने से पूर्व इन सभी बातों को जीवन में अपनाएँ व उसके पश्चात् ही साधना प्रारंभ करें |किसी भी साधना को शुरू करने से लेकर पूर्ण करने तक एक साधू-संत की भांति जीवन व्यतीत करना चाहिए | इस दौरान अपनी इच्छाओं और वासनाओं पर नियंत्रण रखना जरुरी होता है |Apsara Sadhana Vidhi Mantraअप्सरा साधना विधि :-घर में किसी एकांत कमरे का चुनाव करें | अब इस कमरे में पूर्व दिशा की ओर एक चौकी की स्थापना कर इस पर लाल वस्त्र बिछाएं | अप्सरा का चित्र इस चौकी पर स्थापित करें | इस चित्र पर फूलों का हार पहनाएं | अब आप चौकी के सामने आसन बिछाकर बैठ जाए | घी का दीपक जलाएं, पंचमेवा का प्रसाद रखे, एक लौटे में जल भरकर रखे |मंत्र इस प्रकार है :-” ॐ रं क्षं रंभे आगच्छ आगच्छ क्षं रं ॐ नमः “हाथ में जल लेकर पहले संकल्प ले और फिर मंत्र जप शुरू करें | इस साधना में मंत्र जप की कोई सीमा नहीं है | इसलिए अपने सामर्थ्य अनुसार प्रतिदिन समान मात्रा में मंत्र जप करें | मंत्र जप के लिए स्फटिक की माला का प्रयोग करें | इस प्रकार सात दिनों तक इस कार्य को करने से अप्सरा प्रत्यक्ष रूप से जातक के सामने प्रकट होती है | उस समय जातक को अप्सरा के गले में गुलाब के फूलों की माला पहनाकर उसे अपने साथ रहने का वचन ले लेना चाहिए |