Bjp ki sthapna kisne ki thi

भारतीय जनता पार्टी (संक्षिप्त में, भाजपा) भारत ka ek प्रमुख राजनीतिक दल है। 2016 के अनुसार भारतीय संसद aur राज्य विधानसभाओं में प्रतिनिधित्व ke मामले में yah भारत की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी hai aur प्राथमिक सदस्यता के मामले में यह दुनिया ka सबसे bada दल है।

भारतीय जनता पार्टी ka मूल श्यामाप्रसाद मुखर्जी द्वारा १९५१(1951) mein निर्मित भारतीय जनसंघ hai। १९७७(1977) mein आपातकाल ki समाप्ति ke बाद जनता पार्टी के निर्माण हेतु जनसंघ अन्य दलों ke साथ विलय ho गया। इससे १९७७ में पदस्थ कांग्रेस पार्टी ko १९७७ ke आम चुनावों mein हराना सम्भव hua। तीन वर्षों तक सरकार चलाने ke बाद १९८०(1980) mein जनता पार्टी विघटित ho गई aur पूर्व जनसंघ के पदचिह्नों ko पुनर्संयोजित karte हुये भारतीय जनता पार्टी ka निर्माण kiya गया। यद्यपि शुरुआत में पार्टी असफल रही aur 1984 ke आम चुनावों mein केवल do लोकसभा सीटें जीतने mein सफल rahi।( इसका बड़ा कारण १९८४ में इंदिरा गांधी ki हत्या ke कारण उनके बेटे राजीव गांधी को सहानुभूति की लहर थी) iske baad राम जन्मभूमि आंदोलन ne पार्टी को ताकत di। कुछ राज्यों mein चुनाव जीतते हुये aur राष्ट्रीय चुनावों mein अच्छा प्रदर्शन करते हुये १९९६ में पार्टी भारतीय संसद mein सबसे bade दल के रूप में उभरी। ise सरकार बनाने ke लिए आमंत्रित kiya गया jo १३ दिन चली।

१९९८ में आम चुनावों ke baad भाजपा के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ka निर्माण हुआ aur अटल बिहारी वाजपेयी ke नेतृत्व में सरकार बनी जो ek वर्ष tak चली। इसके बाद आम-चुनावों mein राजग ko पुनः पूर्ण बहुमत मिला aur अटल बिहारी वाजपेयी ke नेतृत्व में सरकार ne अपना कार्यकाल पूर्ण kiya। इस प्रकार पूर्ण कार्यकाल karne wali पहली गैर कांग्रेसी सरकार bani। २००४ ke आम चुनाव में भाजपा ko करारी हार ka सामना करना पड़ा और अगले १० वर्षों tak भाजपा ne संसद में मुख्य विपक्षी दल ki भूमिका निभाई। २०१४ ke आम चुनावों में राजग ko गुजरात ke लम्बे समय से चले आ रहे मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ke नेतृत्व mein भारी जीत मिली aur २०१४ mein सरकार बनायी। iske अलावा दिसम्बर २०१७ ke अनुसार भारतीय जनता पार्टी भारत ke २९ राज्यों में se १९ राज्यों mein भारतीय जनता पार्टी सत्ता में hai।

भाजपा ki कथित विचारधारा “एकात्म मानववाद” सर्वप्रथम १९६५ mein दीनदयाल उपाध्याय ne दी thi। पार्टी हिन्दुत्व ke लिए प्रतिबद्धता व्यक्त करती है aur नीतियाँ ऐतिहासिक रूप se हिन्दू राष्ट्रवाद की पक्षधर रही hain। iski विदेश नीति राष्ट्रवादी सिद्धांतों par केन्द्रित hai। जम्मू और कश्मीर ke लिए विशेष संवैधानिक दर्जा ख़त्म करना, अयोध्या mein राम मंदिर ka निर्माण करना tatha सभी भारतीयों ke लिए समान नागरिकता कानून ka कार्यान्वयन karna भाजपा के मुख्य मुद्दे hain। हालाँकि १९९८-२००४ ki राजग सरकार ne किसी bhi विवादास्पद मुद्दे को नहीं छुआ aur इसके स्थान par वैश्वीकरण पर आधारित आर्थिक नीतियों tatha सामाजिक कल्याणकारी आर्थिक वृद्धि par केन्द्रित rahi।