Captcha code kaise banaye in hindi

Captcha का पूरा नाम कंप्लीटेड आटोमेटेड पब्लिक टर्निंग टेस्ट टू टेल ह्यूमन अपार्ट है। यह एक टेस्ट की तरह होता है। जो आपको एक इमेज के तौर पे दिखाई देगी और आपको इसको वापस एक बॉक्स में enter करना होता है। यदि आपने इमेज अनुसार कोड नहीं डाला तो आप वेबसाइट के फॉर्म को सबमिट नहीं कर सकते और आगे बढ़ भी नहीं सकते। यह ज्यादातर वेबसाइट की सुरक्षा के लिए होता है। और आज सभी वेबसाइट पे आप Captcha कोड देख सकते हैं।

सबसे खास बात इस कोड की यह है कि इसे सिर्फ मनुष्य ही पढ़ सकते हैं। और इस तरह computers या किसी साफ्टवेयर द्वारा अकाउंट नहीं बन सकता। यह एक तरह का verification test है। जो यह चेक करता है की वेबसाइट यूज़ करने वाला मनुष्य है या मशीन। यह कोड में image,text और नंबर होता है। जो इस तरह से प्रोग्राम किया गया होता है। की OCR भी इसे रीड न कर सके। इस कोड के द्वारा आप spam को बहुत हद तक आप रोक सकते हैं। और अपनी वेबसाइट को सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं।

Captcha Code कैसे काम करता है – How does Captcha code work in Hindi

Captcha एक ऐसा टेस्ट है। जो देखने में बहुत ही आसान लगता है। पर इसे किसी मशीन या रोबोट्स नहीं पढ़ सकते। यह कोड मनुष्य और मशीन में फर्क करता है। इसलिए यह इस तरह से बनता है। जो सिर्फ मनुष्य पढ़े और आसानी से काम कर सके। इस में अल्फाबेट और नंबर का मिश्रण करके एक इमेज आती है। जो मनुष्य पढ़ सकते हैं। और उन्हें फिर textbox में लिखकर अपना काम कर सकते हैं। Captcha कोड कई प्रकार के होते हैं। और ये आप पर निर्भर है। आपको किस तरह की सुरक्षा चाहिए।

Captcha Code का इतिहास – History of Captcha code in Hindi

इस सेवा का कांसेप्ट ज्यादा पुराना नहीं है और सन् 2000 में ही इसका आविष्कार गौसबेक लेवचिन वेस्ट ने किया था। उन्होंने वेबसाइट idrive.com के sign up पेज के लिए इसे सबसे पहले अप्लाई किया था पेज को सुरक्षित रखने के लिए। यह प्रयोग उनका सफल रहा जिसके बाद yahoo और इस जैसे बहुत से सर्च इंजन ने Captcha कोड का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। 2001 में पेपल ने भी इसका प्रयोग किया ताकि users किसी भी तरह की धोखाधड़ी से बचा सके।

लुईस बोहन की टीम ने 2003 में ये बताया की सन् 1997 में Captcha कोड का अविष्कार दो टीमों द्वारा हुआ है। जिसमें पहले टीम में है। मार्क डी, लिली ब्रिज मार्टिन आबादी, जे. बार्डर और दूसरे टीम में इरान रे शेफ, गिल्ली रानन और एइलो सोल है। इन सभी का मुख्य goal तो वेबसाइट की सुरक्षा पुख़्ता बनाना था जो आज बहुत फायदेमंद साबित हो रहा है।

इसका इस्तेमाल स्पैमिंग और ऑनलाइन सर्विसेज को दुरुपयोग से बचने के लिए इस्तेमाल होता है। स्कैमर्स ऑनलाइन एक्टिवटी न कर पाए और आपको सही से सर्विसेज प्रदान कर सके इसलिए इस सेवा का निर्माण हुआ और आज आप इसे सभी साइट पे देख सकते हैं।

पहले सारी साइट बस डिटेल्स लेके सबमिट करने की इजाजत देती थी जिसकी वजह से रोबोट्स और साफ्टवेयर द्वारा भी ऐसा किया जाता था। लेकिन यह सब रोकना बहुत मुश्किल हो गया था और कई बार इससे साइट भी क्रैश हो जाती थी। इस के इस्तेमाल से इसे काफी हद तक रोक दिया गया है। और सुरक्षित कर दिया गया है। बहुत सी साइट जहाँ verification या लॉगिन होता है। वहाँ आपको ये कोड सोल्व करना होगा ताकि यह पता लग सके के मनुष्य ही इसे यूज़ कर रहा है।