Computer chalana sikhe in hindi

Computer की basic understanding तो होगी ही, Computer में typing करना आता ही होगा क्यूँ? ऐसे बहुत से सवालों का सामना आपने जरुर से बहुत Interviews में किया होगा. और हो भी क्यूँ न आज के computer युग में computers की basic जानकारी रखना तो सभी की जिम्मेदारी है.

इसके अलावा में आपको कंप्यूटर चलाना सीखे की जानकारी भी प्रदान करने वाला हूँ जो की आपको काफी मदद प्रदान करने वाली है Computer चलाने में. इसलिए article को पुरे ध्यान से पढ़ें ताकि कोई भी चीज़ आपके चुक न जाये. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

कंप्यूटर चलाना सीखने से पहले आपको computer से सम्बंधित कुछ जानकारी के विषय में जानना होगा. Computer के basics में आपको computer, उसके parts, computer का function इत्यादि के विषय में जानना होता है. इन सभी को जानने से computer चलाने में आसानी होती है.

कंप्यूटर चलाने से पहले आपको ये जरुर से समझना होगा की आखिर में Computer होता किया है.

असल में Computer का शब्द अंग्रेजी के “Compute” शब्द से बना है, जिसका अर्थ होता है है “गणना”, करना. इसीलिए हिंदी में Computer को गणक या संगणक या अभिकलक यंत्र भी कहा जाता है.

कंप्यूटर का अविष्काार मुख्य रूप से Calculation करने के लिये हुआ था, या फिर आप इसे एक Calculation करने वाली मशीन भी कह सकते हैं.

कंप्यूटर के प्रमुख भाग

अगर Computer के parts की जाये तो ये मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं.

Internal Parts : ये वो parts होते हैं जो की computer के भीतर स्तिथ होते हैं. ये थोड़े shophesticated होते हैं इसलिए इन्हें cabinet के भीतर रखा जाता है. साथ में computer का सभी processing वाला काम इन्ही के द्वारा किया जाता है. उदाहरण के लिए, CPU, Mother Board, Drives इत्यादि.

External Parts : ये वो parts होते हैं जो की computer के बहार आपको देखने को मिल जाता है. ये बहुत ही hard और robust होते हैं और इनका इस्तमाल users के द्वारा किया था है computer को data feed करने के लिए. उदाहरण के लिए, Monitor, Mouse, Keyboard, Printer, Speaker इत्यादि.

OutPut Devices vs InPut Devices

आउटपुट डिवाइस वो devices होते हैं जिनका इस्तमाल computer के processed results को बहार users को दिखाने के लिए होता है. इसमें सबसे बेहतर उदाहरण है Monitor. Output Devices के उदाहरण

1. मोनीटर
2. स्पीकर
3. प्रिन्टर
4. प्रोजेक्टर
5. हेडफोन
6. प्रिंटर

इनपुट डिवाइस उन devices को कहा जाता है जिनका इस्तमाल user के द्वारा computer में data feed करने के लिए किया जाता है. Input Devices के उदाहरण

1. माऊस
2. की-बोर्ड
3. स्केनर
4. डी.वी.डी.ड्राइव
5. पेनड्राईव
6. कार्डरीडर
7. माइक्रोफोन

1. Keyboard

Keyboard का इस्तमाल मुख्य रूप से Computer में type करने के लिए होता है. इसके बिना भी computer चल सकता है लेकिन लिखने में आपको परेशानी आ सकती है.

2. Mouse

Mouse को एक pointing device भी कहा जाता है. इसके मदद से हम cursor को आसानी से एक जगह से दुसरे जगह move कर सकते हैं. ये दिखने में एक चूहे के आकार के होने के कारण इसे mouse नाम प्रदान किया गया है.

3. UPS

UPS एक ऐसा device होता है जो की जरुरत के समय में computer को electric power प्रदान करता है. मतलब की अगर electricity चली जाये तो आपका computer तुरंत बंद नहीं होता, बल्कि इसे बंद होने में कुछ समय लगता है जिसके लिए UPS जिम्मेदार होता है. इसके बिना भी computer चल सकता है जब electricity मेह्जुद हो.

4. Monitor

Monitor दिखने में एक TV के तरह होता है. इसका मुख्य कार्य सभी चीज़ों को दिखाने के लिए होता है. ये बहुत से प्रकार के होते हैं जैसे की LED, LCD या Plasma. Monitor के बिना भी computer चल तो सकता है लेकिन आपको कुछ दिखाई नहीं पड़ेगा की हो क्या रहा है.

5. CPU

CPU ( Central Processing Unit ) इसे computer का मस्तिष्क भी कहा जाता है. Computer की सभी processing का काम CPU द्वारा ही किया जाता है. बिना CPU के computer का कोई भी कार्य संभव नहीं है. सभी devices CPU से connected होते हैं.

6. Scanner

Scanner या  Image Scanner एक ऐसा device होता है जिसका काम ही होता है documents की scanning करना. एक बार आप scan कर लें तब उस document की एक e copy computer के memory में store हो जाती है. जिसे की आप बाद में जब चाहे print कर सकते हैं.

7. Printer

Printer का इस्तमाल computer में documents या photos को print कराने के लिए होता है. बिना Printer के ही computer चल सकता है.

कंप्यूटर की कार्य प्रणाली

कंप्यूैटर के कार्यप्रणाली को समझने के लिए आपको इसके प्रक्रिया को समझना होगा, कैसे एक प्रक्रिया के बाद दूसरा प्रक्रिया होता है.

1. Input का मतलब होता है, वो सभी data जो की आप input devices के इस्तमाल से computer में feed करते हैं.

2. Processing में computer आपके द्वारा feed किया गया data को processor और softwares के मदद से उनकी process करता है, जो की computer का मुख्य भाग होता है. ये सभी चीज़ें computer के द्वारा की जाती है.

3. Output का मतलब होता है की आपके द्वारा feed की गयी input को process करने के बाद जब computer उसे आपके सामने रखता है output devices के द्वारा. ये वो अंतिम परिणाम होता है जिसके लिए अप computer का इस्तमाल कर रहे होते हैं.