Dakshin bharat ki sabse unchi choti

Contents

Dakshin bharat ki sabse unchi choti

अनाइमुड़ी शिखर केरल(इडुक्की जिले) के प्रसिद्ध इरविकुलम राष्ट्रीय उद्यान में स्थित, दक्षिण भारत का ही नही बल्कि पश्चमी घाट का भी सबसे ऊंची चोटी hai

पश्चिम भारत की सबसे ऊंची चोटी

अनाइमुडी भारत के पश्चिमी घाट की पर्वतमाला का एक पर्वत है। यह भारत में स्थित किसी स्थान संबंधी लेख एक आधार है। जानकारी जोड़कर इसे बढ़ाने में विकिपीडिया की मदद करें। अनाइमुड़ी शिखर केरल(इडुक्की जिले) के प्रसिद्ध इरविकुलम राष्ट्रीय उद्यान में स्थित, दक्षिण भारत का ही नही बल्कि पश्चमी घाट का भी सबसे ऊंची चोटी hai

पूर्वी घाट और पश्चिमी घाट में अंतर लिखिए

पश्चिमी घाट प्रायद्वीपीय पठार के पश्चिमी भाग पर गुजरात और महाराष्ट्र की सीमा से शुरू होती है और महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु तथा केरल से होते हुए कन्याकुमारी में समाप्‍त हो जाती है। वहीं पूर्वी घाट प्रायद्वीपीय पठार के पूर्वी भाग पर ओडिशा से तमिलनाडु तक फैला हुआ hai

पूर्वी घाट और पश्चिमी घाट में तीन अंतर

Explanation: पश्चिमी घाट प्रायद्वीपीय पठार के पश्चिमी भाग पर गुजरात और महाराष्ट्र की सीमा से शुरू होती है और महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु तथा केरल से होते हुए कन्याकुमारी में समाप्‍त हो जाती है। वहीं पूर्वी घाट प्रायद्वीपीय पठार के पूर्वी भाग पर ओडिशा से तमिलनाडु तक फैला हुआ hai

पश्चिमी घाट से निकलने वाली नदियाँ

पश्चिमी घाट से निकलकर अरब सागर में गिरने वाली नदियां बहुत छोटी होती हैं।

  • गुजरात – शतरंजी नदी, मादर नदी
  • गोवा – मांडवी नदी, जुआरी नदी …
  • कर्नाटक में – शरावती नदी, गंगावैली नदी
  • केरला में – भरतपुरवा नदी, पेरियार नदी, पाम्बा नदी

पश्चिमी घाट की नदियां डेल्टा नहीं बनाती क्यों?

प्रायद्वीपीय पठार का सामान्य ढाल पूर्व एवं दक्षिण-पूर्व की ओर होने के कारण प्रायद्वीपीय भारत की अधिकांश नदियाँ पश्चिमी घाट से निकलकर बंगाल की खाड़ी में गिरती हैं। ये नदियाँ डेल्टा का निर्माण करती हैं। … हिमालय अपवाह तंत्र की अपेक्षा, प्रायद्वीपीय अपवाह तंत्र अधिक पुराना है। इसकी द्रोणियाँ आकार में छोटी होती hai

कौन सी नदी पश्चिमी घाट से निकलती है

तुंग नदी तुंग नदी भारत की एक प्रमुख नदी हैं। यह पश्चिमी घाट से निकलती  hai

पूर्वी घाट का विस्तार पश्चिमी घाट की तरह क्यों नहीं है?

पूर्वी घाट का विस्तार पश्चिम घाट की तरह सतत् इसलिये नही है, क्योंकि पश्चिमी घाट की तरह पूर्वी घाट में पहाड़ों की एक निरंतर श्रृंखला नहीं है। पूर्वी घाट में महानदी, गोदावरी, कृष्णा, और कावेरी जैसी नदियों के कारण बहुत सी टूटी हुई पहाड़ियों की श्रृंखला hai

पूर्वी घाट और पश्चिमी घाट का मिलन स्थल

  • अनाइमुडी
  • नीलगिरी
  • मलयगिरी
  • अन्नामलई

महाराष्ट्र और कर्नाटक में पश्चिमी घाट क्या कहलाते हैं

पश्चिमी घाट का संस्कृत नाम सह्याद्रि पर्वत है। यह पर्वतश्रेणी महाराष्ट्र में कुंदाइबारी दर्रे से आरंभ होकर, तट के समांतर, सागरतट से ३० किमी से लेकर १०० किमी के अंतर से लगभग ४, ००० फुट तक ऊँची दक्षिण की ओर जाती है।. इसमें थाल घाट, भोर घाट, पाल घाट तीन प्रसिद्ध दर्रे hai