Dhara 25 kya hai

Dhara 25 के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति किसी कार्य को कपट करने के आशय से करता है, उसे कपटपूर्वक कृत्य कहा जाता है, अन्यथा नहीं।