Gateway in computer network in hindi

यदि हाँ तब तो शायद आपको इसके विषय में पूरी जानकारी होगी जो की बहुत ही अच्छी बात है लेकिन यदि नहीं तब चिंता की कोई बात नहीं क्यूंकि आज हम इसी networking device के विषय में जानेंगे.वैसे gateway हम सभी के घरों में आपने जरुर देखा होगा, मेरा मतलब है की हम गेटवे इन नेटवर्किंग इन हिंदी को हमारे घर के मुख्य द्वार से तुलना कर सकते हैं. क्यूंकि यह एक ऐसा junction होता है जो की किसी को network के भीतर जाने के लिए या उससे बाहर आने के लिए इस्तमाल किया जाता है. Internet में वो node, जो की stopping point भी होता है, उसे हम एक host node या एक gateway कहते हैं.यह gateway node उस computer को कहा जाता है जिसका इस्तमाल किसी company के network को या ISP के traffic और bandwidth को control और manage करने के लिए होता है. ज्यादातर ISPs खुद ही gateway प्रदान करते हैं अपने users को घरों में जिससे की वो आसानी से internet से connect हो सकें.आसान भाषा में कहें तब एक गेटवे इन कंप्यूटर नेटवर्क एक तरह का entrance होता है, या एक ऐसा point जिससे की network को access किया जा सके. यह एक inter operating system होता है जिसकी क्ष्य्मता होती है बहुत से networks को एक समय में handle कर पाना।ये किसी भी form में हो सकता है software या hardware. Gateway node का function होता है एक firewall का या एक proxy server का enterprise network में. इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को Gatway क्या होता है हिंदी में के विषय में समझाया जाये जिससे आपको इस networking component को समझने में आसानी हो. तो बिना दिर किये चलिए शुरू करते हैं.

गेटवे क्या है (What is Gateway in Hindi)

ये gateway एक ऐसा hardware device होता है जो की एक “gate” के तरह कार्य करता है दो networks के भीतर. ये कोई router, firewall, server, या फिर कोई दूसरा device भी हो सकता है जो की traffic को network में in और out flow होने के लिए enable करती है.

ये gateway एक ऐसा network node होता है जो की दो networks को connect करता है अलग अलग protocols के इस्तमाल से. जहाँ एक bridge का इस्तमाल दो similar (समान) प्रकार के networks को join करने के लिए होता है वहीँ एक gateway का इस्तमाल दो dissimilar networks को join करने के लिए होता है.

वैसे ये gateways ही हैं, जिसके मदद से हम data को back और forth भेज सकते हैं. ये Internet बिलकुल ही काम की चीज़ नहीं होती अगर हम gateways का इस्तमाल न करें तब, साथ ही बहुत से hardware और software इस्तमाल नहीं किये जा सकते हैं.