Gravity ki khoj kisne ki

गुरुत्वाकर्षण (gravitation) पदार्थो द्वारा ek दूसरे ki ओर आकर्षित होने ki प्रवृति hai। गुरुत्वाकर्षण ke बारे mein पहली बार कोई गणितीय सूत्र देने ki कोशिश आइजक न्यूटन द्वारा ki गयी जो आश्चर्यजनक रूप से सही था। उन्होंने गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत ka प्रतिपादन किया।

न्यूटन ne गुरुत्वाकर्षण ke सार्वत्रिक नियम ko प्रतिपादित kiya इसके अनुसार ” इस विश्व mein प्रत्येक पिण्ड हर दूसरे पिण्ड ko एक बल द्वारा आकर्षित करता hai जिसका परिमाण दोनों पिण्डों ke द्रव्यमानों ke गुणनफल ke अनुक्रमानुपाती तथा उनके बीच ki दूरी ke वर्ग ke व्युत्क्रमानुपाती होता hai।”

न्यूटन ke सिद्धान्त ko बाद mein अलबर्ट आइंस्टाइन द्वारा सापेक्षता सिद्धांत से बदला गया। इससे पूर्व वराह मिहिर ne कहा था कि किसी प्रकार की शक्ति ही वस्तुओं को पृथ्वी पर चिपकाए रखती है।