Janmashtami ka vrat kaise karte hain

जन्माष्टमी par ऐसे karo व्रत उपवासकुशा ke आसन par पूर्व ya उत्तर दिशा kee तरफ मुंह karake बैठ jaye। सबसे Hatha जोड़कर सूर्य, सोम, yam, kala, संधि, भूत, pavan, दिक्‌पति, भूमि, akasha, खेचर, amar और ब्रह्मादि sabhi देवताओ ka स्मरण karathe हुए apane हाथ main jala, अक्षत, puspa, कुश और गंध lekar व्रत उपावस karen ka sakalp लें।