Karo ya maro kisne kaha

हालांकि, आंदोलन की शुरूआत एक दिन पहले यानि की आठ अगस्त 1942 को हुई थी। इस दिन बंबई (अब मुंबई) के एक मैदान में अखिल भारतीय कांग्रेस महासमिति ने प्रस्ताव पारित किया था। यह प्रस्ताव ही ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ बना। इसी आंदोलन में महात्मा गांधी ने करो या मरो का नारा दिया था।