Osi layer in hindi

यदि नहीं तब आज का यह post बहुत ही बढ़िया होने वाला है. शुरुवात में Networks की development बहुत ही chaotic थी. इसका कारण है की प्रत्येक vendor की अपनी ही propriety solution थी. इसमें जो ख़राब बात वो ये की एक vendor की solution दुसरे के साथ compatible नहीं होती थी. बस इसी problem को हल करने के लिए OSI Model का जन्म हुआ.

इसमें layered approach का इस्तमाल किया गया network करने के लिए जिसमें hardware vendors network के लिए hardware design करते थे वहीँ दुसरे software develop करते थे application layer के लिए.

एक open model के इस्तमाल से जहाँ सबकी राजी होती है, इसका मतलब होता है की ऐसे network को बनाना जो की सबके साथ compatible हो. इसी problem को fix करने के लिए International Organization for Standardization (ISO) ने अलग अलग network को study किया और सन 1984 में OSI Model बनकर तैयार हुआ. ये सभी vendors के साथ compatible था.

ये OSI Model बस एक model नहीं है networks को compatible करने के लिए बल्कि ये बहुत ही बढ़िया तरीका है लोगों को networks के विषय में समझाने के लिए. इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को OSI Model क्या है और इसके सभी OSI Layers क्या होते हैं और उनके functions के विषय में जानकारी प्रदान की जाये. तो फिर देरी किस बात की चलिए शुरू करते हैं.

OSI का Full Form है  Open System Interconnection (OSI) model, यह एक ISO standard होता है worldwide communication Networks का जो की define करता है एक networking framework को जिससे की protocols को implement किया जा सके Seven Layers में.

OSI Layer Model को international organization for standards के द्वारा तैयार किया गया है जहाँ पर OSI का मतलब होता है Open Systems Interconnection. इस method से communication system को सात अलग अलग layers में बांटा जाता है.

यहाँ पर एक layer एक assortment होता है theoretically comparable functions का जो की services offer करती हैं उनके ऊपर वाले layer को और services पाती हैं उनके नीचे वाले layer से. OSI Layer Model facilitate करता है user को एक blunder free transportation transversely a network और वहीँ ये pathway भी offer करता है जैसे की applications की जरुरत हो.

यहाँ पर layers packets को फेकते हैं और पाते भी हैं जो की contents को path प्रदान करता है. OSI Layer Model offer करते हैं एक framework networking के लिए जो की employ करता है protocols इन seven layers में.

इसमें processing control exceed होता है एक layer से दुसरे layer तक और ये process continue होता है आखिर तक. इसमें processing start होता है bottom layer और फिर over the channel होकर आगे के station में जाता है फिर बाद में back करता है अपने hierarchy में.

OSI Layer क्या होता है

Communication Process में Layering का मतलब होता है एक ऐसा process जिसका मतलब होता है communication process को breaking down करना Smaller और Easier to handle interdependent categories में.

Layer protocol क्या हैं

वो convention और rules जिनका इस्तमाल ऐसे communications में होता है उन्हें collectively Layer protocol कहा जाता है.

OSI Model की स्थापना कब की गयी

Open Systems Interconnection (OSI) model को develop किया ISO (International organization for standardization) ने सन 1984 में. ISO वो organization है जो की पूरी तरह से dedicated होता है ऐसे global communication और standards को define करने के लिए.