Paramparagat urja ke srot

किसी वस्तु के कार्य करने की क्षमता उस वस्तु की उर्जा कहलाती हैं। हर वस्तु जिसमें कुछ न कुछ कार्य करने की क्षमता होती है, उसमें ऊर्जा अवश्य होती है। परंपरागत ऊर्जा के स्रोत: जलावन, उपले, कोयला, पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस और बिजली। गैर परंपरागत ऊर्जा के स्रोत: सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, ज्वारीय ऊर्जा, बायोगैस और परमाणु ऊर्जा।