Qora blockchain – क्या है Blockchain और Blockchain Technology

दो शब्दों का मुहावरा। पहले ब्लॉक की चेन और दूसरी चेन की चेन। (Qora blockchain) ब्लॉकचैन तकनीक में, एक ब्लॉक का अर्थ है विभिन्न प्रकार के डेटा ब्लॉक। इसका मतलब है कि इन ब्लॉकों में क्रिप्टोकुरेंसी का डेटा संग्रहीत किया जाता है, यही कारण है कि उन्हें ब्लॉक कहा जाता है। पैसे, या अन्य प्रकार के डेटा रखने वाले बॉक्स अलग-अलग जगहों पर पाए जा सकते हैं और एक दूसरे से जुड़े होते हैं।

नई दिल्ली में दादन विश्वकर्मा कहते हैं कि उन्हें बहुत काम करना है। पिछले दो हिस्सों में हमने आपको क्रिप्टो करेंसी के एबीसीडी के बारे में बताया था कि यह कैसे काम करता है। जब हमने आपसे पहले भाग में बात की थी तो हमने आपको सभी Cryptocurrency के A से D तक के बारे में बताया था। यह जानकारी दूसरे भाग में दी गई थी। तीसरे भाग में, हम उस तकनीक के बारे में बात करने जा रहे हैं जो इसे काम करती है। वहां हम आपको Blockhain के बारे में बता रहे हैं।

बिटकॉइन क्या है?

आप ऐसा इसलिए कह सकते हैं क्योंकि हम पहले ही दोनों हिस्सों में बिटकॉइन के बारे में बात कर चुके हैं। यह एक प्रकार का डिजिटल पैसा है जिसका उपयोग चीजों को खरीदने के लिए किया जा सकता है। क्रिप्टोक्यूरेंसी वह पैसा है जो वास्तविक नहीं है। ब्लॉकचैन पिछले कुछ महीनों में बिटकॉइन नाम के बारे में काफी चर्चा हुई है। साल 2020 देश और दुनिया के लिए खराब रहा, लेकिन बिटकॉइन ने इस साल अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। कीमत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2010 में एक बिटकॉइन की कीमत 0.06 अमेरिकी डॉलर (करीब 2.85 रुपये) थी। अब, एक बिटकॉइन की कीमत 30 लाख रुपये है, जो कि बहुत सारा पैसा है। जैसा कि हमारे विशेषज्ञ कहते हैं, यह ब्लॉकचेन के कारण संभव हुआ है। क्योंकि Qora blockchain इसे इतना मूल्यवान, सुरक्षित और लोकप्रिय बनाता है।

बिटकॉइन क्या है और किसने की थी इसकी शुरुआत? बैंक इसे लेकर क्यों हैं परेशान, जानिए सबकुछ

क्या कहना है एक्सपर्ट का?

यह विशेषज्ञों पर निर्भर है कि वे इस बारे में क्या सोचते हैं।
अब, आप सोच रहे होंगे कि यह “ब्लॉकचैन” चीज क्या है। क्षितिज इस प्रश्न का उत्तर यह देता है कि यह दो शब्दों से मिलकर बना है। पहले ब्लॉक की चेन और दूसरी चेन की चेन। ब्लॉकचैन तकनीक में, एक ब्लॉक का अर्थ है विभिन्न प्रकार के डेटा ब्लॉक। इन ब्लॉकों में बहुत सारा क्रिप्टोक्यूरेंसी डेटा रखा जाता है। पैसे, या अन्य प्रकार के डेटा रखने वाले बॉक्स अलग-अलग जगहों पर पाए जा सकते हैं और एक दूसरे से जुड़े होते हैं। आंकड़ों की एक लंबी श्रंखला बनती है। जैसे ही अधिक डेटा आता है, इसे एक नए ब्लॉक में डाल दिया जाता है। जब यह किया जाता है तो डेटा के साथ इसके पहले ब्लॉक में जोड़ा जाता है। जब आप प्रत्येक ब्लॉक को देखते हैं, तो वह दूसरे ब्लॉक से जुड़ा होता है।

डेटा क्या होता है?

प्रत्येक ब्लॉक में इसके पहले ब्लॉक का डेटा, हैश और हैश होता है। अब ये तीन चीजें हैं। ये सच भी है. बिटकॉइन ब्लॉकचेन में लेनदेन के बारे में जानकारी वहां मिल सकती है। इसमें सेंडर, रिसीवर और अकाउंट नंबर जैसी चीजों का रिकॉर्ड रखा जाता है। यह इन “डेटा के ब्लॉक” में क्रिप्टोग्राफी तकनीक की मदद से एन्क्रिप्ट किया गया है। डेटा के ये ब्लॉक बहुत लंबी श्रृंखला बनाने के लिए एक दूसरे से जुड़ते हैं। प्रत्येक ब्लॉक में इसके पहले ब्लॉक का एक क्रिप्टोग्राफ़िक हैश, एक टाइम स्टैम्प और उसमें लेनदेन डेटा होता है। प्रत्येक ब्लॉक अगले ब्लॉक से जुड़ा हुआ है।

Hash क्या होता है?

हैश को एक प्रकार के बायोमेट्रिक के रूप में सोचने का एक तरीका है जो प्रत्येक व्यक्ति के लिए अद्वितीय है। क्या यह एक प्रकार का कोड है? आपके अंगूठे के निशान के रूप में अद्वितीय: यह वही है। ब्लॉक में कुछ भी बदलने पर हैश कोड बदल जाता है। एक तरह से सभी ब्लॉक आपस में जुड़े हुए हैं। लोग इस तरह की व्यवस्था से खिलवाड़ नहीं कर सकते क्योंकि ऐसा करने का कोई तरीका नहीं है। यदि आप एक ब्लॉक में डेटा बदलते हैं, तो आपको दूसरे ब्लॉक में भी डेटा बदलना होगा।

हैश खोजने के बाद क्या होता है?

ब्लॉकचेन में कुछ जोड़ने के लिए, खनिक को एक मजबूत हैश खोजने की जरूरत है। फिर, अन्य नेटवर्क नोड इसकी जांच करते हैं और सुनिश्चित करते हैं कि यह वास्तविक है। इस प्रक्रिया के दौरान, हर कोई इस बात पर सहमत होता है कि क्या करना है।

आम सहमति मिलने के बाद क्या होता है?

यदि सभी सहमत हैं, तो ब्लॉक के सुरक्षित होने की पुष्टि की जाती है। एक क्रिप्टोकॉइन खनिक को दिया जाता है जो इसे सुरक्षित करता है अगर यह सच हो जाता है। लोग इसे अपने काम के लिए पुरस्कार के रूप में प्राप्त करते हैं।

क्रिप्टो माइनिंग क्या होती है?

इसे क्रिप्टोक्यूरेंसी माइनिंग कहा जाता है क्योंकि डेटाबेस में हर जानकारी को डिजिटल रूप से बनाना होता है। उनमें से कुछ को खनिक कहा जाता है क्योंकि वे खदानों में काम करते हैं।

क्या इसे हैक या टैंपर किया जा सकता है?

Qora blockchain का उपयोग सिर्फ बिटकॉइन जैसी मुद्राओं के लिए नहीं किया जाता है। इसे और भी कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। प्रौद्योगिकी: हैक करना या छेड़छाड़ करना बहुत कठिन है। यह बहुत सुरक्षित भी है, और यह किसी एक व्यक्ति से बंधा नहीं है। लेकिन हैकर्स कुछ भी कर सकते हैं, तो हम क्यों डरें?

Blackchain Technology क्या है?

उनका कहना है कि यह एक तरह का एक्सचेंज है। इस मामले में, जो डेटा ब्लॉक पर चलता है, एन्क्रिप्शन का उपयोग प्रत्येक ब्लॉक की सुरक्षा के लिए किया जाता है क्योंकि ये ब्लॉक इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों से एक दूसरे से जुड़े होते हैं। यह काम करने का बहुत पुराना तरीका है। इसका इस्तेमाल सबसे पहले स्टुअर्ट ह्यूबर और डब्ल्यू स्कॉट स्टोर्नेटो ने 1991 में किया था और अब इसे पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है। इसकी तकनीक का मुख्य लक्ष्य यह सुनिश्चित करना था कि डिजिटल दस्तावेजों को किसी भी तरह से बदला नहीं जा सकता है। इसके बाद 2009 में सातोशी नाकामोतो ने ब्लॉकचेन का इस्तेमाल करके बिटकॉइन बनाकर दुनिया को बदल कर रख दिया।

Bitcoin और Blockchain में अंतर क्या है?

जब जमीन और आसमान की बात आती है तो ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी और बिटकॉइन में बड़ा अंतर होता है, लेकिन यह दोनों के साथ समान है। कोई भी एक दूसरे की तरह बिल्कुल नहीं है। वास्तव में, ब्लॉकचेन एक तकनीक है, न कि केवल एक ऐसी जगह जहां डिजिटल पैसा जमा किया जा सकता है। यह एक ऐसी जगह है जहां किसी भी चीज को डिजीटल किया जा सकता है और उसका रिकॉर्ड रखा जा सकता है। क्या वो सही है? फिर, Qora blockchain एक डिजिटल लेज़र है। लोग एक ही समय में बिटकॉइन के जरिए चीजें बेच और खरीद सकते हैं। भले ही इसे करेंसी कहना सही नहीं है, क्योंकि असल दुनिया में इसका कोई मूल्य नहीं है। कई प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी हैं, लेकिन बिटकॉइन उनमें से सिर्फ एक है। ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग कई अन्य प्रकार के क्रिप्टोक्यूरेंसी नेटवर्क चलाने के लिए किया जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर चीन में क्या चल रहा है?

हाल ही में, चीन ने कम से कम पांच प्रांतों या क्षेत्रों में कोयला या जलविद्युत शक्ति से समृद्ध संचालन बंद करके क्रिप्टोकुरेंसी खनन पर एक कठोर रेखा ले ली है। विशेषज्ञों का मानना है कि इसका मुख्य कारण चीन की अपनी पर्यावरण नीतियां हैं। चीन की कार्बन तटस्थता नीति, विशेष रूप से, देश में ऊर्जा की कमी का कारण बनी क्योंकि कोयले से चलने वाली बिजली, जो देश के ऊर्जा उपयोग का 57% से अधिक है, में बहुत कटौती की गई थी।

क्रिप्टोकरेंसी की किन देशों में क्या है स्थिति?

उनका कहना है कि चीन और थाईलैंड जैसे देश लोगों को क्रिप्टोकरेंसी माइन करने नहीं देते हैं। जब चीन ने बिटकॉइन पर बैन लगाया तो कीमतों में काफी गिरावट आई तो वहां भी बैन लगा दिया। क्रिप्टोक्यूरेंसी और अपूरणीय टोकन (एनएफटी) को थाई सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (एसईसी) द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया है क्योंकि उन्हें लगता है कि बहुत से लोग बहुत अधिक दांव लगा रहे हैं। क्षितिज का कहना है कि पिछले कुछ हफ्तों में, चीन ने कम से कम पांच प्रांतों या क्षेत्रों में बहुत अधिक कोयला या जलविद्युत शक्ति वाले संचालन को बंद करके क्रिप्टो खनन पर एक सख्त कदम उठाया है। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने का कारण चीन की अपनी पर्यावरण नीति है। हालाँकि, भारत क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग की अनुमति दे भी सकता है और नहीं भी। सरकार में लोगों ने अभी तक इस बारे में कुछ नहीं कहा है।

बच्चों की पढ़ाई में कैसे मददगार है ब्लॉकचेन?

लंबे समय से शिक्षा में Qora blockchain का उपयोग कैसे किया जा सकता है, इस बारे में बहुत चर्चा हुई है। 90% शिक्षकों का कहना है कि उनके छात्र कैसे सीखते हैं और एक-दूसरे के साथ कैसे बातचीत करते हैं, इस पर प्रौद्योगिकी का बड़ा प्रभाव पड़ता है। ब्लॉकचैन उन तकनीकों में से एक है जिसने लोगों को बेहतर सीखने में मदद की है। लर्निंग इकोनॉमी, वाशिंगटन, डीसी में स्थित एक गैर-लाभकारी कंपनी, लोगों की ज़रूरत में मदद करने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग कर रही है। बिटकॉइन की “ब्लॉकचैन” तकनीक का उपयोग कंपनी यह सोचने के लिए कर रही है कि कौशल, शिक्षा और कार्य अनुभव को सुरक्षित तरीके से कैसे साझा किया जाए।