Rochak kahani

नहीं बच्चे, ऐसी बात नहीं, मुझे अपनी नियति पता है। मेरी सांसें बंद होने में अभी कुछ घंटे बाकी हैं। दशानन ने निर्विकार भाव से कहा।