Sagar kise kahate hain

पृथ्वी के धरातल के लगभग 71 फीसदी भाग को घेरे हुई जल राशियों को जलमंडल कहा जाता है। जल मंडल में मुख्य रूप से महासागर शामिल हैं लेकिन तकनीकी रूप से इसमें पृथ्वी की संपूर्ण जलराशि शामिल है जिसमें आंतरिक समुद्र , झील , नदियां और 2 किमी . की गहराई तक पाया जाने वाला भूमिजल शामिल हैं। महासागरों की औसत गहराई 4 किमी. है। 

 पृथ्वी को नीला ग्रह कहा जाता हैं। पृथ्वी का लगभग 71 % भाग जल तथा 29 % भाग स्थल हैं। पृथ्वी पर पाए जाने वाले जल का 97 % से अधिक भाग महासागरों में पाया जाता हैं जो इतना अधिक खारा होता हैं कि मानव के उपयोग में नहीं आ सकता हैं। 

महासागर वह समग्र लवण जलराशि है, जो पृथ्वी के लगभग तीन चौथाई पृष्ठ पर फैला हुआ है । महासागर के छोटे छोटे भागों को समुद्र तथा खाड़ी कहते हैं कई सागरों को खुद में समाने वाले महासागर, खारे पानी का एक बहुत बड़ा जल क्षेत्र होते हैं। वैसे तो धरती पर पांच अलग अलग महासागर बताए जाते हैं। लेकिन ये सभी आपस में जुड़े हुए हैं।

  1.       प्रशांत महासागर 
  2.      अटलांटिक महासागर 
  3.      हिन्द महासागर 
  4.      आर्कटिक महासागर

महासागर जुड़े कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

  • प्रशांत महासागर सबसे बड़ा महासागर हैं। पृथ्वी का सबसे गहरा भाग मेरियाना गर्त इसी में हैं। 
  • अटलांटिक महासागर विश्व का सबसे दूसरा बड़ा महासागर हैं। व्यपार के दृस्टि से सबसे व्यस्त हैं। 
  • हिन्द महासागर एक ऐसा महासागर हैं जिसका नाम किसी देश (भारत) के नाम पर रखा गया हैं। 
  • आर्कटिक महासागर उत्तर ध्रुव के चारो ओर फैला हैं।  प्रशांत महासागर से बेरिंग जलसंधि के माध्यम से जुड़ा हैं। 
  • महासागरीय जल खारा होता हैं इसमें सोडियम क्लोराइड की मात्रा अधिक होती हैं। 
  • मृत सागर समुद्र तल से 440 मीटर नीचे , दुनिया का सबसे निचला बिंदु कहा जाने वाला सागर है । इसे खारे पानी की सबसे निचली झील भी कहा जाता है । 65 किलोमीटर लंबा और 18 किलोमीटर चौड़ा यह सागर अपने उच्च घनत्व के लिए जाना जाता है , जिससे तैराकों का डूबना असंभव होता है। मृत सागर Dead sea जार्डन-इजराइल में हैं जो कि अत्यंत खारे पानी की झील हैं। इसका घनत्व ज्यादा होने के कारन इसमें आदमी डूबता नहीं हैं।

नहर जल परिवहन तथा स्थानान्तरण का मानव – निर्मित संरचना है । नहर शब्द से ऐसे जलमार्ग का बोध होता है , जो प्राकृतिक न होकर , मानवनिर्मित होता है । मुख्यत : इसका प्रयोग खेती के लिये जल को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने में किया जाता है । नहरे नदियो के जल को सिंचाई हेतु विभिन्न क्षेत्रो तक पहुंचाती हैं । कुछ प्रमुख जल मार्ग के बारे में जानते हैं…

  • स्वेज नहर – भूमध्य सागर एवं लाल सागर को जोड़ती हैं। 1996  इसका मिश्र द्वारा राष्ट्रीयकरण। 
  • पनामा नहर – प्रशांत महासागर (Pacific Ocean) तहत अंध महासागर (Atlantic Ocean) को जोड़ती हैं।  वर्तमान में यह पनामा के अधिकार  में हैं। 
  • सू नहर – सुपीरियर झील को ह्यूरन झील से जोड़ती है (यूएसए)
  • ईरी नहर – ईरी झील और मिशिगन झील को जोड़ती है (यूएसए)
  • गोटा नहर – स्टॉकहोम और गुटेनबर्ग के बीच (स्वीडन)
  • कील नहर – उत्तरी सागर और बाल्टिक सागर के बीच (जर्मनी)
  • मैनचेस्टर नहर – मैनचेस्टर और लिवरपूल के बीच (ग्रेट ब्रिटेन)
  • वोल्गा डान नहर – गेस्टोव व स्टालिनग्राड के बीच (रूस)
  • अल्बर्ट नहर – एण्टवर्प लीग तथा वेनेलक्स को जोड़ती है (पश्चिमी यूरोप)
  • वेलैण्ड नहर –  ईरी व ओण्टेरियो के बीच (यूएसए)

नदी

 नदि की उत्पत्ति कैसे हुई ? नदियों पर बांध क्यों बनाए जाते हैं ? डेल्टा का निर्माण कैसे हुआ? अफवाह तंत्र क्या है, बाढ़ किसे कहते हैं ? पूरी जानकारी।