What is rom in hindi

ROM एक non volatile Memory होती है. इसका मतलब की यह एक ऐसी memory device या storage medium होती है जो की information को permanently store करती है.

ROM का Full Form होता है “Read Only Memory“. इसके बारे मै आपको पिछले Article में बताया था ये Computer का Primary Memory का ही हिस्सा है. तो थोडा और याद दिलादेता हु Computer में दो तरह की Memory होते है Primary और Secondary, Primary Memory दो प्रकार के होते है एक RAM और दूसरा ROM.

इसका पूरा नाम है Read Only Memory इसके नाम से ही आपको पता चल रहा होगा की इस Memory को हम बस Read कर सकते है. इसमें fixed Program रहता है (या फिर Permanent Memory बोल सकता है) ,इस Program को हम आसानी से बदल नहीं सकते, जैसे इसका सही जवाब है जब आप Computer को खरीद ते हो  उसमे में BIOS program पहले से ही रहता है.

ये System को on करने में मदद करता है और इसके साथ ये BOIS Computer और Operating System को Link करता है.

तो ये BIOS नए Computer में पहले से ही रहता है और ये जिस Memory में रहता है उसी का नाम है ROM और एक उदाहरण है FIRMWARE Software program है जो की Hardware के साथ Attach रहता है. और Firmware में जो program है वो भी एक Rom Chip में रहता है.

इस Memory को Non-Volatile Memory भी बोला ज्याता है. इस Memory को तभी बनाया ज्याता जब Computer बनते है. ROM को बस Computer या फिर Mobile में इस्तेमाल नहीं होते इसे हम कुछ और Electronic Device में भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

जैसे WASHING Machine, Microwave Oven, TV, AC, Lift वगेरा में. तो बदलते Technology की वजह से ROM के भी अलग अलग Type होते हैं. इसके बारे में हम आगे बात करेंगे Types Of ROM in Hindi.

रोम की विशेषताएँ

चलिए अब ROM की विसेश्ताओं के ऊपर गौर करते हैं.
•  ROM एक स्थायी मेमोरी या permanent memory होती हैं.
•  इसमें Computer की सभी Basic Functionality के निर्देश को स्टोर किया जाता है.
•  ROM केवल Readable होती हैं. मतलब की इसमें स्तिथ information को केवल read किया जा सकता है.
•  कीमत की बात करें तब ROM, RAM की तुलना में सस्ती होती हैं.
•  ROM बहुत ही कम उर्जा का इस्तमाल करते हैं वहीँ वो बहुत ही ज्यादा reliable होते हैं.

रोम के प्रकार – Types Of ROM in Hindi

इस लेख में कुछ सब्द हैं जैसे Data, Instruction, Program सबका मतलब एक ही है Confuse मत होना और एक Term “Programmed” है इसका मतलब यह है की ये बोहत सारे Command होते हैं जो की एक Task करते है, जैसे एक Software करता है.

वैसे ही यहाँ पे Computer On करने का काम एक Software program करता है, जिसका नाम है Firmware जो की ROM में रहता है. वैसे तो ROM 4 Types के हैं जो की निचे दिए गए हैं और उनकी जानकारी भी है.

  1. MROM (Masked Read Only Memory)
  2. PROM (Programmable Read-Only Memory)
  3. EPROM (Erasable and Programmable Read-Only Memory)
  4. EEPROM (Electrically Erasable and Programmable Read-Only Memory)